गुरुकुलों में समता की शिक्षा

गुरुकुल में अमीर घरों से आये हुए कुछ विद्यार्थियों ने गुरुकुल के संचालक मुनि आत्रेय से पूछा : ‘‘भगवन् ! जो अपने घरों से मनपसंद भोजन और वस्त्र मँगा सकते हैं वे उनका उपयोग क्यों न करें ? वे दूसरे निर्धन विद्यार्थियों की तरह सामान्य चीजों से क्यों गुजारा करें ?’’

मुनि : ‘‘विद्यार्थियो ! हम जिस वातावरण में रह रहे हैं, उसीके अनुरूप हमारा रहन-सहन होना चाहिए । सभीके भोजन और वस्त्रों में एकरूपता होनी चाहिए, जिससे किसीके मन में आत्महीनता के भाव न उत्पन्न हो सकें । समानता के उद्देश्य से ही यह व्यवस्था रखी गयी है । यहाँ गरीब-अमीर कोई नहीं हैं, सब एक समान हैं । धनी अपना धन गरीबों की सहायता में लगाये, न कि निजी सुख-सुविधाओं एवं विलासितापूर्ण जीवन में । यही आदर्श जीवन का सिद्धांत है ।’’

(सबसे ऊँचे योग ‘समत्व योग’ एवं सुखकारी सिद्धांत ‘सादा जीवन, उच्च विचार’ की सुंदर शिक्षा देनेवाली पत्रिका ‘ऋषि प्रसाद’ से साभार)

Leave a Reply

Close Menu